गुरुवार, 8 अप्रैल 2021

अब गाजियाबाद और नोएडा-ग्रेटर नोएडा में भी लगा नाइट कर्फ्यू, जानिये इसकी टाइमिंग : OmTimes

नोएडा (ऊँ टाइम्स)  दिल्ली और गाजियाबाद के बाद अब नोएडा-ग्रेटर नोएडा में भी नाइट कर्फ्यू लगाने का एलान हो चुका है। समूचे जिले में दिल्ली की तरह ही रात्रि कर्फ्यू रात 10 बजे से सुबह 5 बजे तक लागू रहेगा। इस संबंध में जिलाधिकारी सुहास एलवाई ने बृहस्पतिवार दोपहर में स्वास्थ्य व जिला प्रशासन के अधिकारियों के साथ बैठक कर रात्रि कर्फ्यू लगाने को लेकर फैसला लिया है। मिली जानकारी के मुताबिक, नोएडा-ग्रेटर नोएडा में रात 10 बजे से सुबह 5 बजे तक कर्फ्यू लगाया जाएगा। कुलमिलाकर नोएडा-ग्रेटर नोएडा में दिल्ली की तर्ज पर ही नाइट कर्फ्यू लगाया गया है। यह नाइट कर्फ्यू 17 अप्रैल की सुबह तक प्रभावी रहेगा।

दिल्ली में नाइट कर्फ्यू का टाइमिंग-  रात 10 बजे से सुबह 5 बजे तक सामान्य गतिविधियां नहीं होंगी।  दिल्ली की तरह पर ही नोएडा-ग्रेटर नोएडा में भी नाइट कर्फ्यू लगाया गया है।  यहां पर भी दिल्ली की ही तरह रात 10 बजे से सुबह 5 बजे तक नाइट कर्फ्यू प्रभावी रहेगा। 

दिल्ली से सटे गाजियाबाद में रात 9 बजे से सुबह 7 बजे तक नाइट कर्फ्यू लगाने का एलान किया गया है। यह लाइन कर्फ्यू शुक्रवार की रात से शुरू होगा। 

उधर, जिला सूचना अधिकारी के मुताबिक, गाजियाबाद जिले में कोविड-19 संक्रमण को लेकर जिला प्रशासन का कड़ा रुख रुख अपना लिया है। जिलाधिकारी अजय शंकर पांडेय ने 17 अप्रैल तक नाइट कर्फ्यू लगा दिया है। इसके तहत रात 9 बजे से सुबह 7 बजे तक गाजियाबाद में नाइट कर्फ्यू प्रभावी रहेगा। इसके साथ ही जिले में सभी शिक्षण संस्थाएं, स्कूल, कॉलेज, कोचिंग सेंटर को आगामी 17 अप्रैल तक बंद करने के आदेश हैं। वहीं, जिन शिक्षण संस्थानों में परीक्षा अथवा प्रैक्टिकल चल रहे हैं, वह यथावत परीक्षा के दिन खुलेंगे। 

आप को बता दें कि उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने बुधवार को कोरोना संक्रमण की दृष्टि से संवेदनशील 13 जिलों में संक्रमण की रोकथाम के लिए वीडियो कांफ्रेंसिंग के माध्यम से अधिकारियों संग समीक्षा बैठक की थी। उन्होंने निर्देश दिए थे कि जिन जिलों में प्रतिदिन मिलने वाले कोरोना संक्रमित मरीजों की संख्या 100 पार हैं, वहां माध्यमिक विद्यालयों में अवकाश के संबंध में जिलाधिकारी स्थानीय स्थिति के अनुरूप निर्णय लें। ऐसे जिलों में रात्रि में आवागमन नियंत्रित रखने के संबंध में भी समुचित निर्णय लिया जा रहा है, लेकिन किसी भी परिस्थिति में आवश्यक सामग्री जैसे दवा, खाद्यान्न आदि के आवागमन को बाधित न किया जाए।