रविवार, 28 मार्च 2021

पहली बार एक दिन में 300 से ज्यादा की हुई मौतें, महाराष्‍ट्र में लॉकडाउन के संकेत : OmTimes

नई दिल्ली (ऊँ टाइम्स)  कोरोना महामारी की दूसरी लहर थमती नजर नहीं आ रही है। संक्रमण के नए मामलों के साथ ही दैनिक मौतों का आंकड़ा भी बढ़ते जा रहा है। इस साल पहली बार एक दिन में महामारी की वजह से तीन सौ से ज्यादा लोगों की मौत हो हुई है, जबकि 63 हजार से ज्यादा नए केस भी पाए गए हैं। सक्रिय मामलों में लगातार 18वें दिन भी वृद्धि दर्ज की गई। वहीं महाराष्ट्र में बढ़ रहे कोरोना के मामलों के बीच रविवार को मुख्‍यमंत्री उद्धव ठाकरे ने लॉकडाउन लगाने के संकेत दिए।

.....तो लगा देंगे फिर लॉकडाउन

महाराष्‍ट्र के मुख्‍यमंत्री उद्धव ठाकरे ने वरिष्ठ अधिकारियों और कोविड टास्क फोर्स के साथ बैठक में कहा कि यदि लोग कोरोना से संबंधित नियमों का उल्लंघन करना जारी रखते हैं तो लॉकडाउन जैसे प्रतिबंधों के लिए तैयार रहें। सरकार ने कोरोना संबंधी सभी पाबंदियों को 15 अप्रैल तक बढ़ा दिया है। नए निर्देशों में कहा गया है कि मुंबई में जिस रिहायशी सोसाइटी में पांच या उससे अधिक संक्रमित पाए जाएंगे उसे सील कर दिया जाएगा।

टास्क फोर्स ने जताई है यह आशंका - इस बैठक में टास्क फोर्स के सदस्यों ने आशंका जताई कि राज्य में अगले 24 घंटों के दौरान 40 हजार से ज्यादा नए मामले मिल सकते हैं। सूत्र बताते हैं कि इसे देखते हुए टास्क फोर्स ने लॉकडाउन जैसी सख्त पाबंदियां लगाने का सुझाव दिया है। वहीं मुख्यमंत्री उद्धव ठाकरे ने अधिकारियों से लॉकडाउन की ऐसी योजना बनाने को कहा है जिससे अर्थव्यवस्था पर कम से कम प्रभाव पड़े। 

महाराष्‍ट्र में धारा-144 हुआ लागू - महाराष्‍ट्र में शनिवार रात से थिएटरों को बंद कर दिया गया है। सार्वजनिक स्थल पर बिना मास्क पाए जाने पर अब 500 रुपये का जुर्माना लगाया जाएगा। यही नहीं मॉल, रेस्तरां, बीच और गार्डन रात आठ से सुबह सात बजे तक बंद रहेंगे। इस दौरान इन जगहों पर किसी भी व्‍यक्ति के पाए जाने पर उस पर एक हजार रुपये तक का जुर्माना लगाया जाएगा। महाराष्‍ट्र में रविवार रात से धारा-144 लगा दी गई।

महाराष्ट्र में है संक्रमण की दर सबसे ज्यादा 22.78 फीसद - आठ राज्यों और केंद्र शासित प्रदेशों में संक्रमण की दर राष्ट्रीय औसत दर (5.04 प्रतिशत) से ज्यादा है। इनमें से भी महाराष्ट्र में संक्रमण की दर सबसे ज्यादा 22.78 प्रतिशत हो गई है। इसके अलावा राष्ट्रीय औसत से ज्यादा संक्रमण की दर चंडीगढ़ (11.85 प्रतिशत), पंजाब (8.45 प्रतिशत), गोवा (7.03 फीसद), पुडुचेरी (6.85 प्रतिशत), छत्तीसगढ़ (6.79 फीसद), मध्य प्रदेश (6.65 प्रतिशत) और हरियाणा (5.41 प्रतिशत) में है। केंद्रीय स्‍वास्‍थ्‍य मंत्रालय के मुताबिक सक्रिय मामलों में लगातार 18 दिनों से बढ़ रहे हैं। इस समय इनकी कुल संख्या 4,86,310 हो गई है, जो कुल संक्रमितों का 4.06 प्रतिशत है। महाराष्ट्र में सबसे ज्यादा 3.04 लाख सक्रिय मामले हैं।

प्रधान मंत्री मोदी ने कहा - 'दवाई भी, कड़ाई भी' के मंत्र का करें पालन -  प्रधानमंत्री मोदी ने रविवार को अपने मन की बात कार्यक्रम में कोरोना को लेकर पिछले साल इसी महीने में लगाए गए जनता कर्फ्यू की याद दिलाई। उन्होंने इसे अनुशासन का सबसे बड़ा उदाहरण बताया। कहा कि आने वाले पीढि़यां इस पर गर्व करेंगी। कोरोना के बढ़ते हुए मामले को देखते हुए उन्होंने कहा कि सभी को 'दवाई भी, कड़ाई भी' के मंत्र का पालन करना होगा। पीएम मोदी ने अपनी बारी आने पर कोविड वैक्सीन लगवाने की अपील की। 

इन शहरों में लगा लॉकडाउन - महाराष्ट्र के औरंगाबाद में लॉकडाउन लगाया गया है जो 30 मार्च से 8 अप्रैल तक चलेगा। वहीं नागपुर में 31 मार्च तक लॉकडाउन लगाया गया है। महाराष्ट्र में रविवार रात से धारा-144 लगाई गई है। मध्य प्रदेश के विदिशा, उज्जैन, ग्वालियर, नरसिंहपुर, छिंदवाड़ा के सौंसर में हर रविवार को लॉकडाउन का फैसला किया गया है। वहीं महाराष्ट्र, पंजाब, मध्य प्रदेश और गुजरात के कई इलाकों में नाइट कर्फ्यू जैसे प्रतिबंध लगाए गए हैं। 

मंत्रालय के मुताबिक 15 राज्यों और केंद्र शासित प्रदेशों में प्रति 10 लाख आबादी पर जांच राष्ट्रीय औसत (1,74,602) से कम है। इन राज्यों में मध्य प्रदेश, राजस्थान, उत्तर प्रदेश, गुजरात और महाराष्ट्र शामिल हैं।

सात राज्यों में 81 फीसद से ज्यादा नए केस - देश के सात राज्यों में महामारी की स्थिति ज्यादा खराब है। ये राज्य हैं-महाराष्ट्र, छत्तीसगढ़, कर्नाटक, पंजाब, गुजरात, मध्य प्रदेश और तमिलनाडु। बीते 24 घंटों के दौरान पाए गए कुल नए संक्रमितों में से 81.46 फीसद इन्हीं राज्यों से हैं।

संक्रमितों का आंकड़ा एक करोड़ 19 लाख से भी आगे निकल गया है -  केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्रालय की तरफ से रविवार सुबह आठ बजे अपडेट किए गए आंकड़ों के मुताबिक बीते 24 घंटों के दौरान 62,714 नए मामले मिले और संक्रमितों का आंकड़ा एक करोड़ 19 लाख 71 हजार को पार कर गया। इससे पहले पिछले साल 16 अक्टूबर को इससे ज्यादा 63,371 केस पाए गए थे। इस दौरान 312 लोगों की मौत भी हुई है। 25 दिसंबर, 2020 को इससे ज्यादा 336 मौतें हुई थीं।

अब तक एक लाख 61 हजार से ज्‍यादा की हुई मौतें -  मृतकों का आंकड़ा बढ़कर 1,61,6552 हो गया है। 28,739 लोग पूरी तरह से संक्रमण मुक्त भी हुए हैं और इसके साथ ही अब तक पूरी तरह से ठीक हो चुके मरीजों की संख्या एक करोड़ 13 लाख 23 हजार से ज्यादा हो गई है। मरीजों के उबरने की दर घटकर 94.58 फीसद पर आ गई है और मृत्युदर 1.35 फीसद है।

शनिवार को 11.81 लाख लोगों का हुआ टेस्ट - भारतीय चिकित्सा अनुसंधान परिषद के मुताबिक कोरोना संक्रमण के पता लगाने के लिए शनिवार को देश भर में 11,81,289 नमूनों की जांच की गई। इनको मिलाकर 27 मार्च तक कुल 24.09 करोड़ नमूनों का परीक्षण किया जा चुका है।

इन 14 राज्यों में 24 घंटों में कोई मौत नहीं -  देश के 14 राज्यों और केंद्र शासित प्रदेशों में पिछले 24 घंटों के दौरान कोरोना महामारी के चलते किसी मरीज की मौत नहीं हुई है। इन राज्यों में राजस्थान, आंध्र प्रदेश, असम, लक्षद्वीप, लद्दाख, दादरा एवं नगर हवेली एवं दमन और दीव, मणिपुर, मेघालय, मिजोरम, सिक्किम, त्रिपुरा, नगालैंड, अरुणाचल प्रदेश और अंडमान एवं निकोबार द्वीप समूह शामिल हैं।

भाजपा के एक विधायक ने उद्धव सरकार को हिंदू विरोधी बताया -  महाराष्ट्र के भाजपा विधायक राम कदम ने राज्य की उद्धव ठाकरे सरकार को हिंदू विरोधी बताया है। कोरोना के चलते होलिका दहन पर लगाई गई पाबंदियों के चलते उन्होंने राज्य सरकार की आलोचना करते हुए यह आरोप लगाया। कदम ने ट्वीट किया, 'ठाकरे सरकार के मुताबिक आप घर के बाहर होलिका नहीं जला सकते। अगर आप ऐसा करते हुए पाए जाते हैं तो पुलिस आपके खिलाफ कार्रवाई करेगी। अगर होलिका घर के बाहर नहीं जलाई जाएगी तो क्या घर के अंदर जलाई जाएगी? क्या उन्होंने (सरकार) होश खो दिया है? रंगों वाली होली खेलने पर लगाई गई पाबंदियां तो समझ में आती है, क्योंकि उसमें भीड़ ज्यादा होती है।'