शुक्रवार, 8 जनवरी 2021

पीएम सभी राज्यों के सीएम के साथ बैठक के बाद कर सकते हैं टीकाकरण की तारीख का ऐलान : OmTimes

नई दिल्ली (अविनाश द्विवेदी, विशेष संवाददाता, ऊँ टाइम्स )  COVID19 का टीकाकरण शुरू होने से पहले प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी सोमवार को सभी मुख्यमंत्रियों के साथ बैठक करेंगे। टीकाकरण की चाक चौबंद तैयारियों को परखने के लिए शुक्रवार को पूरे देश में एक बार फिर इसका पूर्वाभ्यास किया गया, जो स्वास्थ्य मंत्रालय के मुताबिक पूरी तरह से सफल रहा है। इसके साथ ही मंत्रालय सीरम इंस्टीट्यूट और भारत बायोटेक के साथ वैक्सीन खरीद के समझौते को अंतिम रूप में देने जुट गया है। हालांकि, वैक्सीन की कीमत और सप्लाई की गारंटी को लेकर बातचीत अटकी हुई है। 

स्वास्थ्य मंत्रालय के एक वरिष्ठ अधिकारी ने कहा कि देश में बनी दो वैक्सीन की पूरी दुनिया में मांग है, इसको देखते हुए यह जरूरी है कि यह सही और जरूरत मंद लोगों तक पहुंचे। इसीलिए प्रधानमंत्री मोदी सोमवार को खुद मुख्यमंत्रियों के साथ बैठक कर वैक्सीन वितरण की प्रक्रिया को सही तरीके से चलाने में उनकी सक्रिय भागीदारी सुनिश्चित करने की कोशिश करेंगे। गौरतलब है कि कोरोना काल में लॉकडाउन और अनलॉक की प्रक्रिया के दौरान भी प्रधानमंत्री सभी मुख्यमंत्रियों के साथ वर्चुअल बैठकें करते रहे हैं।देश के सभी जिलों में टीकाकरण के दूसरे पूर्वाभ्यास को सफल बताते हुए अधिकारी ने कहा कि सारी तैयारियां पूरी हो चुकी हैं और अगले हफ्ते कभी भी लाभार्थियों को वैक्सीन देने का काम शुरू किया जा सकता है।

अभी तक राज्यों को वैक्सीन की सप्लाई शुरू नहीं होने के बारे में पूछे जाने पर अधिकारी ने कहा कि कीमत और सप्लाई की गारंटी को लेकर कंपनियों से बातचीत चल रही है। सीरम इंस्टीट्यूट सरकार को 200 रुपये प्रति डोज के हिसाब से वैक्सीन देने को तैयार है। लेकिन एक साथ करोड़ों डोज की खरीद का हवाला देते हुए सरकार कीमत को और कम कराने की कोशिश कर रही है। 

वहीं भारत बायोटेक भी सीरम इंस्टीट्यूट की वैक्सीन की तुलना में कम कीमत पर वैक्सीन सप्लाई करने का भरोसा दे रही है। वरिष्ठ अधिकारी के अनुसार वैक्सीन की कीमत के साथ ही उसकी सप्लाई की गारंटी पर भी बात अटकी हुई है। सरकार दोनों कंपनियों से यह सुनिश्चित करना चाहती है कि हर हफ्ते वह कितनी वैक्सीन सप्लाई करेंगी। इन मुद्दों को लेकर बातचीत अंतिम दौर में है और समझौते पर कभी भी हस्ताक्षर किए जा सकते हैं। 

सरकार पड़ोसी और अन्य सहयोगी देशों को भी प्राथमिकता के आधार पर वैक्सीन सप्लाई सुनिश्चित कराने की कोशिश कर रही है। वहीं सीरम इंस्टीट्यूट और भारत बायोटेक अपने स्तर पर दुनिया के कई देशों के साथ वैक्सीन सप्लाई की बातचीत कर रहे हैं, जहां उन्हें वैक्सीन की अच्छी कीमत मिलने की उम्मीद है। सीरम इंस्टीट्यूट ने इसके लिए दक्षिण अफ्रीका के साथ समझौता भी कर लिया है। 

सीरम इंस्टीट्यूट ने लगभग 10 करोड़ डोज तैयार कर लिया है और उनमें से पांच करोड़ डोज की गुणवत्ता पर सेंट्रल ड्रग लेबोरेटरी की मुहर भी लग चुकी है। सीरम इंस्टीट्यूट ने प्राथमिकता के आधार पर देश को वैक्सीन उपलब्ध कराने का भरोसा दिलाया है!

कोई टिप्पणी नहीं:

टिप्पणी पोस्ट करें